भा.कृ.अनु.प.-केन्द्रीय अंतर्स्थलीय मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान बैरकपुर तथा इसके क्षेत्रीय केन्द्रों में हिंदी सप्ताह का आयोजन



भा. कृ. अनु. प. - केन्द्रीय अंतर्स्थलीय मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान बैरकपुर मुख्यालय में दिनांक 14-21 सितम्बर, 2016 के दौरान हिंदी सप्ताह का आयोजन किया गया। इस दौरान अहिन्दी भाषी एवं हिन्दी भाषी कर्मचारियों के लिए अलग अलग विभिन्न प्रतियोगिताए जैसे- हिंदी निबंध लेखन, टिप्पणी एवं पत्र लेखन, प्रशासनिक शब्दावली एवं श्रुत लेखन आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। सप्ताह के दौरान आयोजित प्रतियोगिताओं में सभी में काफी उत्साह दिखाई दिया। सप्ताह के दौरान आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेता को समापन समारोह के अवसर पर मुख्य अतिथि श्री आथर्व त्रिपुरारी, विशेष महानिरीक्षक एवं उप महानिरीक्षक (ए. पी., बैरकपुर) तथा संस्थान के पूर्व प्रधान वैज्ञानिक डा. एन. पी. श्रीवास्तव द्वारा सम्मानित किया गया। समापन समारोह के दौरान अपने उदबोधन में डा. बी. पी. मोहान्ति ने वैज्ञानिक एवं प्रचलित पत्रिकाओं में वैज्ञानिक लेखों का हिन्दी रूपांतरण प्रकाशित करने पर जोर दिया।

डा. उत्तम कुमार सरकार ने कहा कि संस्थान में हिन्दी के प्रयोग को बढ़ाने के लिए भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न प्रोत्साहन योजनाओं से समस्त कर्मचारियों को समय समय पर अवगत कराया जाए एवं प्रोत्साहित किया जाए। श्री नवीन कुमार झा प्रशासनिक अधिकारी ने अपने उदबोधन में सरकारी नीतियों एवं संवैधानिक दायित्वों पर सभासदों को अवगत कराया।



Multiple fisheries development activities in tribal area of Lakhimpur Kheri, Uttar Pradesh organized by ICAR-CIFRI


ICAR-CIFRI, Regional Centre, Allahabad has been working for fish yield enhancement from ponds in tribal area of Lakhimpur Kheri district of Uttar Pradesh since last year under TSP. Centre conducted fisheries development activities in the tribal region of Ramnagar, Chandan-Chauki in Lakhimpur Kheri district of Uttar Pradesh in the first fortnight of September 2016. The activities included training cum awareness program for tribal fish farmers and fishers and distribution of fish seed (fingerlings) & feed in the area.

Farm inputs were distributed to the tribal farmers after receiving feedback and successful completion of training/ awareness program with the objective to enhance their livelihood. Quality fish seed in the form of Indian major carp and exotic carp fingerlings (around 235 kg) was distributed to 47 progressive tribal fish farmers and stocked in their ponds.

News & archives

Subscribe to ICAR - Central Inland Fisheries Research Institute RSS